xet ज़ू १८८बेट

Publishing time:2021-10-22 18:49:33

लाइव कैसीनो पुरस्कार xet ज़ू १८८बेट betway ऐप,fun88 हेल्पलाइन नंबर,lovebet 360 ऐप,lovebet ग्रुप नेट वर्थ,lovebet स्पोर्ट्स बेटिंग,lovebet्ना कोम्मेटेरी,baccarat 99th,बैकारेट को फॉर्मूला जीतना होगा,बेस्ट फाइव वाटर प्यूरीफायर,बोन अल्ट्रासाउंड,भारत में कैसीनो,शतरंज 64 बिट मुफ्त डाउनलोड,क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया लाइव स्कोर,क्रिकेट आभासी वास्तविकता हेडसेट,एस्पोर्ट्स टूरिज्म,फ़ुटबॉल खाता खोलने का तरीका,फ्री जिन रम्मी क्लासिक,खुश किसान एथेनरी,गेंद की बाधाओं को कैसे समझें,क्या वास्तविक लोगों द्वारा खेला जाने वाला कोई ऑनलाइन बैकारेट है,ख खेल प्रशंसक,लाइव कैसीनो तालिका न्यूनतम,लॉटरी इडाहो,लूडो टैलेंट एपीके डाउनलोड,ऑनलाइन बास्केटबॉल सट्टेबाजी,ऑनलाइन गेम पैसे कमाने वाला ऐप,असली पैसे के लिए ऑनलाइन स्लॉट,प्वाइंट रम्मी जॉब,पोकर अपस्विंग,रूले जेम्स बांड रणनीति,रम्मी एक कनास्ता,रम्मीकल्चर सॉफ्टवेयर,स्लॉट एक मजेदार सर्कस सर्कस,खेल लॉटरी यूरोपीय कप सट्टेबाजी,तीन पत्ती और बहार,फुटबॉल संघ,वीडियो सीएचीन स्लॉट,बैकारेट के लिए कौन सी वेबसाइट बेहतर है,cricket पाकिस्तान,औलाद स्टेटस,क्रिकेट न्यूज़ आज तक,चेस ट्रिक्स,दस स्कोर लॉटरी,बरसात डीजे सॉन्ग,रमी गेम क्या है,स्टेटस ज्ञान, .अब जिंदगी बचाने वाली मशीनों के लिए संकट बनी चिप की कमी, खत्म हो रहा है स्टॉक; 20% तक बढ़ सकती हैं कीमतें

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

अब जिंदगी बचाने वाली मशीनों के लिए संकट बनी चिप की कमी, खत्म हो रहा है स्टॉक; 20% तक बढ़ सकती हैं कीमतें

मुंबई
Shortage of Semiconductor Chip: सेमीकंडक्टर चिप की भारी कमी अभी तक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज और व्हीकल बनाने वालों के लिए मुसीबत बनी हुई थी। लेकिन अब यह लोगों की जिंदगी बचाने वाली मशीनों की कमी का संकट खड़ा करने वाली है। सेमीकंडक्टर चिप की कमी से अब क्रिटिकल लाइफ सेविंग डिवाइसेज और मेडटेक इंडस्ट्री प्रभावित होने लगी है। वैश्विक स्तर पर चिप को लेकर बढ़ती अनिश्चितता और आपूर्ति में व्यवधान ने पहले ही कुछ उपकरणों की कीमतों में वृद्धि की है औैर कुछ डिवाइसेज आउट ऑफ स्टॉक हैं। लेकिन इससे भी महत्वपूर्ण यह है कि चिप की कमी अब सैकड़ों चिप-संचालित क्रिटिकल केयर और आईसीयू उपकरणों की उपलब्धता के लिए खतरा है। इन उपकरणों में वेंटिलेटर, डिफाइब्रिलेटर, इमेजिंग मशीन, ग्लूकोज, ईसीजी, ब्लड प्रेशर मॉनिटर और इम्प्लांटेबल पेसमेकर शामिल हैं।

मेडटेक कंपनियों ने टीओआई को बताया कि साल के अंत तक, चिप की कमी का स्टॉक पर असर और खराब हो सकता है, कीमतें 20% तक बढ़ने की उम्मीद है। अब तक, हाई-प्रोफाइल, उपभोक्ता संचालित क्षेत्रों जैसे ऑटोमोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स पर चिप की कमी का प्रभाव सामने आया है और काफी चर्चा में है। चिप के निर्माण में लगने वाला वक्त पहले से ही 4-8 सप्ताह से बढ़कर 30-40 सप्ताह हो चुका है और कुछ मामलों में यह 100 सप्ताह तक भी है। इसने निर्माताओं के वितरण कार्यक्रम को बाधित कर दिया है, जिससे भारी देरी हुई है।

साल के आखिर तक खत्म हो सकता है चिप का मौजूदा स्टॉक
एनेस्थीसिया मशीन, पेशेंट मॉनिटर्स और आईसीयू वेंटिलेटर बेचने वाली बीपीएल मेडिकल टेक्नोलॉजीज के सीईओ और एमडी सुनील खुराना ने कहा, 'वर्तमान में हम मांग का प्रबंधन करने और उपकरणों की कीमतों को उसी स्तर पर बनाए रखने में सक्षम हैं। हालांकि, अनिश्चितता बढ़ रही है और साल के अंत तक जब माइक्रोप्रॉसेसर चिप्स के मौजूदा स्टॉक समाप्त हो सकते हैं, गंभीर कमी हमें प्रभावित कर सकती है।' बाजार में पहले से ही पेशेंट मॉनीटर, डिफाइब्रिलेटर और ईसीजी जैसे टचस्क्रीन के इस्तेमाल वाले उपकरण समाप्त हो चुके हैं। चिप घरेलू विक्रेताओं से मंगवाए जाते हैं, जो इन्हें चीन, जापान, ताइवान और अमेरिका से आयात करते हैं।

यह भी पढ़ें:मेगा आईपीओ से पहले पेटीएम को 2,000 करोड़ रुपये का झटका! जानिए क्या है मामला

इलेक्ट्रॉनिक्स और मेडटेक इंडस्ट्री को आत्मनिर्भर बनाने की जरूरत
स्कैनरे टेक्नोलॉजीज के एमडी विश्वप्रसाद अल्वा के मुताबिक, "उद्योग ने 2012 से केंद्र सरकार को कई बार हमारे सेमीकंडक्टर फैब्रिकेशन प्लांट बनाने की जरूरत के बारे में बताया है ताकि इलेक्ट्रॉनिक्स और मेडटेक इंडस्ट्री वास्तव में आत्मनिर्भर बन सकें। 90 के दशक के मध्य में, हमारे पास एक मजबूत और जीवंत कंप्यूटर हार्डवेयर क्षेत्र था। इसके बाद इसकी उपेक्षा की गई। हम सोते रहे, जबकि चीन के पास एक स्पष्ट निष्पादन योग्य रणनीति थी। इसे प्राथमिकता से देखने का समय आ गया है। यदि हमारे पास आविष्कार करने का समय नहीं है, तो हम चीन के हार्डवेयर मॉडल की आंख बंद करके नकल कर सकते हैं। देर तो हो चुकी है लेकिन अगर आत्मनिर्भरता के लिए एक अलग मंत्रालय और एक गैर-राजनीतिक विशेषज्ञों का पैनल हो तो अभी भी 10 वर्षों में काफी आत्मनिर्भर होना संभव है।

Crude Oil Products: डीजल-पेट्रोल ही नहीं, कच्चे तेल से निकलती हैं ये 12 चीजें

Crude Oil Products: कच्चे तेल के दाम बढ़ते जा रहे हैं, जिससे डीजल और पेट्रोल (Petrol-Diesl) महंगा होता जा रहा है। कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के चलते सिर्फ डीजल-पेट्रोल ही नहीं, बल्कि बहुत सारी अन्य चीजें भी महंगी हो रही हैं। घरेलू गैस सिलेंडर (LPG Cylinder) की बढ़ती कीमतें भी काफी हद तक इसी का नतीजा हैं। कच्चे तेल से सिर्फ डीजल-पेट्रोल ही नहीं निकलते हैं, बल्कि और भी बहुत सारी चीजें निकलती हैं। आइए जानते हैं कच्चे तेल से निकलने वाली 12 अहम चीजों (12 products from crude oil) के बारे में।




In Video: Crude Oil Products: डीजल-पेट्रोल ही नहीं, कच्चे तेल से निकलती हैं ये 12 चीजें

टॉपिक

semiconductor chip shortageshortage of semiconductor chipchip shortage effect on life saving devicesChip shortage effect on medtech industrySemiconductor Chip

ETPrime stories of the day

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Aviation

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf
Telecom

Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf

9 mins read
After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Investing

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
अब जिंदगी बचाने वाली मशीनों के लिए संकट बनी चिप की कमी, खत्म हो रहा है स्टॉक; 20% तक बढ़ सकती हैं कीमतें

नयी दिल्ली, 22 अक्टूबर (भाषा) अडाणी ग्रीन एनर्जी की अनुषंगी अडाणी रिन्यूएबल एनर्जी होल्डिंग फिफ्टीन को 450 मेगावाट की पवन ऊर्जा परियोजना स्थापित करने के लिए लेटर ऑफ अवार्ड (एलओए) मिला है। कंपनी ने शेयर बाजार को दी गयी सूचना में कहा, "अडाणी ग्रीन एनर्जी लि. की पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी अडाणी रिन्यूएबल एनर्जी होल्डिंग फिफ्टीन लि. ने सोलर एनर्जी कॉरपोरेट ऑफ इंडिया लि. (एसईसीआई) द्वारा 1,200 मेगावाट की आईएसटीएस-कनेक्टेड विंड पावर प्रोजेक्ट (ट्रांच-11) स्थापित करने के लिए जारी एक निविदा में हिस्सा लिया था और उसे इस निविदा के तहत 450 मेगावाट की पवन ऊर्जा परियोजना स्थापित करने के लिएकोहिमा, 22 अक्टूबर (भाषा) राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति वित्त एवं विकास निगम (एनएसटीएफडीसी) ने पूर्वोत्तर राज्यों के 53 सफल आदिवासी उद्यमियों को विभिन्न उद्यमिता उपक्रमों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया है। एनएसटीएफडीसी, केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्रालय के अधीनस्थ शीर्ष संगठन है जो अनुसूचित जनजातियों के आर्थिक विकास के लिए काम करता है। इन उद्यमियों को बृहस्पतिवार को आयोजित एक समारोह में सम्मानित किया गया। इन 53 उद्यमियों ने अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, नागालैंड और त्रिपुरा में विभिन्न वर्गों में सफलतापूर्वक व्यापार इकाइयां और सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) स्थापित किए हैं।Paytm IPO: मेगा आईपीओ से पहले पेटीएम को 2,000 करोड़ रुपये का झटका! जानिए क्या है मामला

नयी दिल्ली, 22 अक्टूबर (भाषा) एचडीएफसी लाइफ इंश्योरेंस ने शुक्रवार को कहा कि 30 सितंबर को समाप्त चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में उसका एकीकृत शुद्ध लाभ लगभग 16 प्रतिशत घटकर 275.91 करोड़ रुपये रहा। जीवन बीमा कंपनी ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि एक साल पहले 2020-21 की इसी तिमाही में उसने 327.83 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। हालांकि जुलाई-सितंबर 2021 की अवधि के दौरान कंपनी की कुल आय बढ़कर 20,478.46 करोड़ रुपये हो गयी जो एक साल पहले इसी तिमाही में 16,426.03 करोड़ रुपये थी। कंपनी की शुद्ध प्रीमियम आय भी एक सालगुरुवार सुबह अमेरिका के ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म बाइनेंस (Binance) की कीमत में अचानक करीब 90 फीसदी गिरावट आ गई। यह 65,000 डॉलर से लुढ़ककर 8,200 डॉलर पर आ गई। क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज ने इसके लिए एक बग को जिम्मेदार ठहराया है। यह बग एक इंस्टीट्यूशनल कस्टमर के ट्रेडिंग एल्गोरिदम में मौजूद था।पेट्रोल, डीजल की कीमतों में लगातार तीसरे दिन वृद्धि

फ्यूचर-रिलायंस डील (Future-Reliance) को एक बार फिर झटका लगा है। सिंगापुर के आर्बिट्रेशन पैनल ने फ्यूचर रिटेल (Future Retail) की याचिका को खारिज कर दिया है। आर्बिट्रेशन कोर्ट ने पिछले साल अपने आदेश में फ्यूचर और रिलायंस के बीच हुई 3.4 अरब डॉलर की डील को रोक दिया था।सेबी (SEBI) के पास जमा ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस के मुताबिक पेटीएम (Paytm) आईपीओ प्लेसमेंट के जरिए 20 अरब करोड़ रुपये जुटाने पर विचार कर सकती है। लेकिन वैल्यूएशन में मतभेद के चलते कंपनी इससे किनारा करने पर विचार कर रही है।अडाणी रिन्यूएबल एनर्जी को 450 मेगावाट की पवन ऊर्जा परियोजना मिली

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


कानून द्वारा शासन
sports कीड़ा
स्पोर्ट्सबुक हार्ड रॉक टम्पा
बैकारेट विनिंग फॉर्मूला फोरम
शतरंज एओ विवो
fun88 वैकल्पिक
निर्यात अकादमी पाकिस्तान
मैं अपना लवबेट पासवर्ड भूल गया
किस बैकारेट गेम पर भरोसा किया जा सकता है
सर्वश्रेष्ठ लाइव ब्लैकजैक वेबसाइटें
ऑनलाइन कैसीनो erfahrungen
lovebet ड्रीम11 भविष्यवाणी आज
fun88 समीक्षा
नायब फुटबॉल जूते
कैसीनो पूरी फिल्म डाउनलोड
ऑनलाइन स्लॉट ब्रिटेन पेपैल
lovebet प्रमोशन
कैसीनो दिन APK
क्रिकेट नियम किताब तमिल में
बेल्टवे 8 दुर्घटना आज
घातांक नियम
स्पोर्ट्स 360 ट्विटर
बरसात टुडे
शतरंज की दुकान
रियल मनी वीडियो पोकर
10cric यूट्यूब
स्लॉट कोण प्लेट पर दिए गए हैं